अलविदा 2016! साल में हुए ये बड़े बदलाव हम नहीं भूल पाएंगे

साल 2016 जा रहा है| इस साल भारत में कई तरह के बदलाव हुए है| यह बदलाव किसी को पसंद आये तो किसी को नहीं| हमेशा यही होता है देश में जो बदलाव आते है| वो हर किसी को पसंद नहीं आते| 2016 भारत के लिए बहुत ही अहम् वर्ष रहा है| 2016 में भारतीय संस्कृति की मजबूती देखने को मिली है| वो राजनीती में हो या फ़िल्मी दुनिया में| धर्म में हो या समाज में| इस साल हमें भारतीय संस्कृति देखने को मिली है| हम आपको कुछ ऐसे ही उदहारण बता रहे है|

अलविदा 2016! साल में हुए ये बड़े बदलाव हम नहीं भूल पाएंगे

नोटबंदी की घोषणा

पीएम मोदी ने आर्थिक तरक्की का हवाला देते हुए नोटबंदी का फैसला लिया| इस फैसले का विरोध भी जमकर हुआ| परंतु समाज ने पहले दिन से ही इसे स्वीकारना चालू कर दिया| क्योंकि हर कोई कालाधन और भ्रष्टाचार के खिलाफ नज़र आता है| हमारी व्यवस्था में कमी के कारन इस फैसले में काफी परेशानी हुई| जिससे लोगो ने इस फैसले पर धीरे-धीरे सवाल उठाना शुरू कर दिया| लोगो ने घंटे बैंको की लाइन में बिताये| परंतु सभी ने कहा केवल कुछ ही दिनों की बात है| फिर सब सामान्य हो जायेगा| यही भारतीय संस्कृति की मजबूती दिखती है|

अलविदा 2016! साल में हुए ये बड़े बदलाव हम नहीं भूल पाएंगे

बिहार में शराब बंदी की घोषणा

हम सब जानते है शराब किसी का भला नहीं कर सकती| फिर भी हमारी राजनीति ऐसी है कि चाहकर भी हम शराब बंद करने कि हिम्मत नहीं जुटा पाते| लेकिन बिहार के मुख्यमंत्री नितीश कुमार ने बहुत बड़ा फैसला लिया| बिहार में शराब बंदी का| जिससे पुरे भारत समेत दुनिया को सोचने पर मज़बूर कर दिया| यह फैसला भी भारतीय संस्कृति की सुंदरता को दर्शाती है| यह फैसला बिहार जैसे राज्य के लिए बहित मुश्किल था|बिहार में आदिवासी इलाको में शराब को संस्कृति का हिस्सा माना जाता था| परंतु धीरे-धीरे अब उन इलाको में लोग शराब को भूल रहे है| यह भारतीय संस्कृति की मजबूती को दर्शाती है|

अलविदा 2016! साल में हुए ये बड़े बदलाव हम नहीं भूल पाएंगे

खेल की दुनिया में महिलाओ ने लहराया परचम

बात करते है खेल जगत की| 2016 में भारतीय महिलाओ ने खेल में धमाल मचाया है| खेलो के महाकुम्भ में पूरी दुनिया को दिखा दिया कि भारतीय महिलाये खेलो में भी हिम्मत दिखा सकती है| ओलम्पिक में पी वी संधू, साक्षी मालिक और दीप कर्माकर ने ऐसे जोहर दिखाया| जिससे भारत का सीना और फूल गया| ये वही लडकिया है जो घर की चार दीवारी में भारतीय परम्पराओ का निर्वाह करते हुए| आज समाज को गौरान्वित कर दिखाया|

अलविदा 2016! साल में हुए ये बड़े बदलाव हम नहीं भूल पाएंगे

दरगाह के अंदर पहुची महिलाये

देश की सबसे बड़ी दरगाह में इसी वर्ष में महिलाओ की एंट्री हुई| समाज में बदलाव जरुरी है| जब समाज में बदलाव शुरू होता है| तब हर तबके के लोग इस बदलाव का हिस्सा बनना चाहते है| मुस्लिम महिलाओ ने मुम्बई स्थित हाजी अली दरगाह में अंदर जाने की ठानी| काफी हंगामा और विरोध के बाद उन्हें अंदर जाने की स्वतंत्रता मिली| यह सच में भारत जैसे देश के लिए बहुत बड़ा कदम था| वो भी मुस्लिम धर्म में, जो पुरे विश्व में कट्टरपन की मिसाल बन चुका है| अब हाजी अली दरगाह में महिलाओ की एंट्री भारतीय संस्कृति की एक और मिसाल है|

अलविदा 2016! साल में हुए ये बड़े बदलाव हम नहीं भूल पाएंगे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: