जन्म से ही होता है कानो में छेद, जाने वजह

कुछ लोगो के कानो में जन्म से ही छेद होता है| बहुत से लोग कान पर छेद के साथ ही जन्म लेते है| कई बार यह छेद बहुत ही मुश्किल से दिखते है| ऐसे लोग जिस चीज के साथ पैदा होते है| उन्हें प्रियुरिक्लूयर साइनस कहते है|

किस देश में कितनी आबादी है ऐसे लोगो की

यूके में ऐसे लोगो की आबादी सिर्फ 1 प्रतिशत बताई जाती है| अमेरिका में इसकी संख्या और भी कम है| भारत सहित पुरे एशिया में इन लोगो की संख्या 3-8 प्रतिशत बताई जाती है| अफ्रीका के देशो में यही संख्या लगभग 10 प्रतिशत है| यह छेद ग्रंथि, खरोंच और डिम्पल की तरह होता है| यह छेद केवल चेहरे और कान की नरम हड्डी पर ही मिलता है|

क्या है जन्म से कानो में छेद की वजह

प्रीयूरिक्यूलर साइनस एक अनुवांशिक जन्म इफेक्ट है| इसे सबसे पहले वैज्ञानिक वेन हेसिंगर ने 1864 में बताया| तब उन्होंने इस छेद को सिर्फ एक ही कान में पाया था| मगर बाद ने हुए शोध से पता चला कि जिन लोगो के कान में छेद होता है| उनमे से लगभग 50 प्रतिशत लोगो के दोनों कानो में यह पाया जाता है|

इसे दूर करने के उपाय

शोध के अनुसार बताया गया है कि अगर आप आबादी का एक प्रतिशत है| तो चिंता की जरुरत नहीं| इसे आसानी से खत्म किया जा सकता है| इसे एंटीबायोटिक्स से समाप्त किया जा सकता है| मगर फिर भी ज्यादातर लोग सर्जरी का उपयोग करते है| इसे दूर करने के लिए|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: